Category: मध्यप्रदेश

0

यूपीए की सरकारो ने डुबाए बैंक

नईदिल्ली( अनिल जैन)।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैंकिंग और रियल एस्टेट क्षेत्र की बिगड़ी हालत के लिए पिछली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। मोदी ने बुधवार को कहा कि उनकी सरकार...

0

माईक्रोसाफ्ट, गूगल और फेसबुक के साथ स्किल डेवलपमेंट पर कार्यशाला करेगा नेटलिंक समूह

भोपाल,13 दिसंबर। देश का नेटलिंक ग्रुप वर्ष 2018 में मध्यप्रदेश में माइक्रोसाफ्ट, गूगल और फेस बुक ग्रुप के साथ मिलकर स्किल डेव्हलपमेंट पर वर्कशाप करेगा। वर्कशाप में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग की भागीदारी होगी।...

0

पूंजी को ठगों से बचाने सरकार लाई नया कानून

बैंककारी विनियमन संशोधन विधेयक 2017 नई दिल्ली। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कर्ज के दबाव में फंसी कंपनियों के प्रवर्तकों को आस्वस्त करते हुए कहा कि उनके पुराने फंसे कर्ज एनपीए की समस्या का...

2

विकास की खंती को आदिकालीन कानून से भरने की कोशिश

-आलोक सिंघई- बारह साल से कम उम्र की बेटियों से व्यभिचार करने वालों को फांसी की सजा से दंडित करने का कानून बनाकर शिवराज सिंह चौहान की सरकार ने जनभावनाओं के समुंदर पर अपना...

0

किसान को माफिया से नहीं बचा पा रही भावांतर योजना

भोपाल,(पीआईसीएमपीडॉटकॉम)।नीति आयोग की पहल पर मध्यप्रदेश को प्रयोगभूमि बनाने वाली भावांतर भुगतान योजना किसानों के शोषण और लूट का हथियार साबित हो रही है। लगातार संशोधनों के बाद योजना का मूल उद्देश्य कुचल गया...

0

नोटबंदी पर खामोशी घातक

नोटबंदी का एक साल पूरा होने के बाद भी देश में तू तू मैं मैं का दौर चल रहा है। भारत जैसे विशाल देश में नोटबंदी का फैसला एक बड़ी चुनौती रहा है। डा....

0

वित्तीय साक्षरता देश की जरूरत

वित्तीय शिक्षा 21वीं शताब्दी की पहली दशाब्दी में लोगों में वित्तीय साक्षरता फैलाने की आवश्यकता को सभी ने स्वीकार किया। अधिकतर देश वित्तीय शिक्षा के लिए एकीकृत और समन्वित राष्ट्रीय रणनीति अपना रहे हैं।...

0

मंहगी पड़ेगी सड़कों के बतंगड़ की साजिश

-आलोक सिंघई- ठेठ देहाती किसान जब शहर जाता है तो वहां बिकते मठे को देखकर वो ये जरूर बोलता है कि इससे तो ज्यादा अच्छा हमारा गांव है जहां घर घर मही मिल जाता...

0

एकात्म मानववाद अब ज्यादा प्रासंगिकःशिवराज सिंह चौहान

भोपाल,24 अक्टूबर(पीआईसीएमपीडॉटकॉम)। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि विश्व में बढ़ रही भौतिकवादी प्रवृत्ति से अमीरी और गरीबी का अन्तर काफी बढ़ गया है। इससे मनुष्य की आंतरिक शक्ति और शांति...