Category: राजनीति

0

बौद्धिक संपदा अधिकार की अनुमति से विकिरण रहित संचार क्रांति संभवःसंजर

भोपाल(पीआईसीएमपीडॉटकॉम)। सांसद आलोक संजर का कहना है कि बौद्धिक संपदा अधिकार प्राप्त होने के बाद होने वाले अनुसंधानों से क्वाण्टम गणित की गणनाएं ज्यादा सुग्राही तरीके से की जा सकती हैं। आज की संचार...

0

गौरी लंकेश की हत्या की आड़ में गंदी राजनीति

-आलोक सिंघई- बैंगलुरु की पत्रकार गौरी लंकेश की हत्यारे अभी पुलिस गिरफ्त में नहीं आए हैं। आरएसएस के क्षेत्रीय प्रचारक वी नागराज इस नृशंस हत्या पर अपना विरोध जता रहे हैं। इसके बावजूद कांग्रेस...

0

जन ज्वार का नट सम्राट अमितशाह

- भरतचन्द्र नायक भारतीय जनता पार्टी ने राजनीति के विशिष्ठ पड़ाव पर ऐसे समय जब तीन दशकों से केन्द्र में स्पष्ट बहुमत मिलना लगभग असंभव मान लिया गया 16 वी लोकसभा के चुनाव 2014...

3

लोकप्रियता के समुंदर से सार्थकता के रत्न ढूंढती भाजपा

-आलोक सिंघई- भारत के चुनाव आयुक्त और मध्यप्रदेश कैडर के 1977 बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी रहे ओ.पी.रावत ने दो टूक लहजे में कहा है कि राजनीतिक पार्टियां केवल चुनाव जीतने का...

2

जलने वाले भी देखें आसियान देशों की दोस्ती:अनुपम खेर

भोपाल,14 अगस्त(पीआईसीएमपीडॉटकॉम)। फिल्म अभिनेता अनुपम खेर का कहना है कि आसियान संगठन से जुड़े देश भारत की परस्परोपग्रहो जीवानाम वाली संस्कृति की मिसाल हैं। इन देशों के बीच पिछले हजार सालों से सह अस्तित्व...

0

राष्ट्रवादी साज पर मेहबूबा का बेसुरा राग

– भरतचन्द्र नायक क्षेत्रीय दल यदि आज की सियासत में अपनी प्रासंगिकता खो रहे है और उनकी क्षरित विश्वसनीयता से जनता में अलोकप्रियता के चरम पर पहुंच रहे है तो इसके लिए उनकी वैचारिक...

0

आजादी की कहानियों में आसरा तलाशती कांग्रेस

सल्तनत चली गई है लेकिन लोग अभी भी खुद को सुल्तान समझ रहे हैं। यह कहकर जयराम रमेश ने आज की कांग्रेस को नसीहत देने की कोशिश की है। गुजरात में अहमद पटेल का...

1

जेबी लोकतंत्र की विरासत अब धराशायी

- भरतचन्द्र नायक भारतीय लोकतंत्र की महिमा निराली है। यहां दशकों तक एक राजनैतिक दल ने आजादी के जंग में कामयाबी का श्रेय भी लूटा और राजनैतिक एकाधिकार भी जमाया। तब निर्वाचित सरकारे लोकतंत्र...

0

कैसे भुला दें मुखर्जी का बलिदान

(6 जुलाई जन्मदिवस) …..- भरतचन्द्र नायक लम्हों ने खता की है सदियों ने सजा पायी। आजादी के बाद देश में गठित पहली राष्ट्रीय सरकार के अंतद्र्वंद का ही दुष्परिणाम है कि आज कश्मीर की...

0

अंतिम व्यक्ति का विकास हमारी प्रतिबद्धताःविनय सहस्त्रबुद्धे

भोपाल 22 जुलाई(पीआईसीएमपीडॉटकॉम)। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं प्रदेश प्रभारी डॉ. विनय सहस्रबुद्धे ने कहा कि समाज के अंतिम चरण के विकास हमारी प्रतिबद्धता और चरित्र है। यह हमारी अंर्तदृष्टि भी है...